Connect with us

ताज़ातरीन ख़बरें

विश्व जनसंख्या 8 अरब पहुंची, 2023 तक सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा भारत

दुनिया की आबादी को 7 से 8 अरब तक बढ़ने में लगभग 12 साल लग गए, लेकिन इसे 9 अरब तक पहुंचने में लगभग 14.5 साल (2037) लगने की उम्मीद है, जो ग्‍लोबल ग्रोथ में मंदी को दर्शाता है

Read In English
World Population Hits 8 Billion, India To Become Most Populous Nation By 2023
177 मिलियन की आबादी में भारत 8 बिलियन का सबसे बड़ा योगदानकर्ता है: वर्ल्‍ड पॉपुलेशन प्रॉस्पेक्ट्स 2022

नई दिल्ली: हमारा ग्रह अब 8 अरब लोगों का घर है. 15 नवंबर, 2022 इतिहास में दर्ज किया जाएगा, क्योंकि वैश्विक आबादी 8 अरब तक पहुंच गई है, जो पब्लिक हेल्‍थ में बड़े सुधारों का संकेत है, जिसने मरने के जोखिम को कम किया है और जीवन प्रत्याशा में वृद्धि की है. संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (यूएनएफपीए) का मानना है कि यह पल मानवता के लिए संख्याओं से परे देखने और लोगों और ग्रह की रक्षा के लिए अपनी साझा जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए आह्वान भी करता है, जिसकी शुरुआत सबसे कमजोर लोगों से होती है.

दुनिया की आबादी को 7 से 8 अरब तक बढ़ने में लगभग 12 साल लग गए, लेकिन इसे 1 अरब और बढ़ने में लगभग 14.5 साल (2037) लगने की उम्मीद है, जो वैश्विक विकास में मंदी को दर्शाता है. 2080 के दशक के दौरान विश्व जनसंख्या के लगभग 10.4 बिलियन लोगों के शिखर तक पहुँचने का अनुमान है, और यह 2100 तक इसी स्‍तर पर बनी रह सकती हे.

यूएनएफपीए ने कहा कि वर्ष 2037 तक जनसंख्या में एक अरब की बढ़ोतरी में एशिया और अफ्रीका के सबसे अधिक योगदान करने का अनुमान है, जबकि यूरोप का योगदान घटती जनसंख्या के कारण ऋणात्मक रहने का अनुमान है. दिलचस्प बात यह है कि भारत, 8 बिलियन (177 मिलियन) में सबसे बड़ा योगदानकर्ता, चीन को पीछे छोड़ देगा, जो दूसरा सबसे बड़ा योगदानकर्ता (73 मिलियन) था और जिसका अगले बिलियन में योगदान नकारात्मक होगा, 2023 तक भारत दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश होगा.

इसे भी पढ़ें: एक स्वस्थ भारत की ओर कदम: 75 वर्षों में स्वास्थ्य में ये थे सबसे बड़े गेम चेंजर

भारत से जुड़े कुछ प्रमुख तथ्य इस प्रकार हैं:

1. भारत की जनसंख्या वृद्धि स्थिर लगती है. कुल प्रजनन दर – कमोबेश प्रति महिला पैदा होने वाले बच्चों की औसत संख्या – राष्ट्रीय स्तर पर 2.2 से घटकर 2.0 हो गई है. कुल 31 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (देश की आबादी का 69.7%) ने 2.1 के रिप्‍लेसमेंट लेवल से नीचे प्रजनन दर हासिल की है.

2. प्रजनन क्षमता में गिरावट के मुख्य कारणों में शामिल हैं: आधुनिक परिवार नियोजन विधियों को अपनाने में वृद्धि (2015-16 में 47.8% से 2019-21 में 56.5% तक) और परिवार नियोजन की अपूर्ण आवश्यकता में 4% अंकों की कमी. यह परिवार नियोजन संबंधी जानकारी और सेवाओं तक पहुंच में उल्लेखनीय सुधार का संकेत देता है. यह दिखाता है कि भारत की राष्ट्रीय जनसंख्या नीतियां और स्वास्थ्य प्रणालियां काम कर रही हैं।

3. भारत एक युवा राष्ट्र है, जिसके पास दुनिया में कहीं भी युवाओं का सबसे बड़ा समूह है, जिसमें अपने जनसांख्यिकीय लाभांश को प्राप्त करने की बड़ी क्षमता है. जबकि दुनिया के कई हिस्सों की उम्र बढ़ रही है, भारत की युवा आबादी वैश्विक समस्याओं को हल करने के लिए एक वैश्विक संसाधन हो सकती है.

वैश्विक जनसंख्या में वृद्धि का क्या अर्थ है?

स्थिर विकास के बारे में बात करते हुए, पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट और पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया की कार्यकारी निदेशक पूनम मुत्तरेजा ने कहा,

हम जानते हैं कि दुनिया भर में जनसंख्या वृद्धि स्थिर हो रही है. हमें अब गर्भनिरोधक की अपूर्ण आवश्यकता को समाप्त करने पर ध्यान देना चाहिए, ताकि महिलाएं यह तय कर सकें कि क्या वे बच्चे पैदा करना चाहती हैं और यदि हां, तो कब, कितने और कितने अंतराल पर. भारत जैसे बड़ी आबादी वाले देशों के लिए चुनौती सभी के लिए एक खुशहाल और स्वस्थ भविष्य के लिए बेहतर योजना बनाने की है.

मुत्तरेजा ने “आबादी और ग्रह के बीच बहुआयामी संबंधों पर हमारे दृष्टिकोण को व्यापक बनाने” का आह्वान किया. उन्‍होंने कहा,

वैश्विक प्रमाण बताते हैं कि दुनिया के लोगों का एक छोटा हिस्सा पृथ्वी के अधिकांश संसाधनों का उपयोग करता है और इसके अधिकांश ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का प्रोडक्‍शन करता है. पिछले 25 वर्षों में, वैश्विक आबादी का सबसे अमीर 10 फीसदी सभी कार्बन उत्सर्जन के आधे से अधिक के लिए जिम्मेदार रहा है.

इसे भी पढ़ें: महिलाओं और बच्चों में कुपोषण से कैसे निपटा जाए? जानिए यूनिसेफ इंडिया के न्यूट्रिशन प्रमुख से

संयुक्त राष्ट्र ने सभी के लिए सतत विकास को आगे बढ़ाने में एकजुटता का आह्वान किया है. एक आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा,

जब तक हम वैश्विक अमीरों और वंचितों के बीच की जम्हाई की खाई को पाट नहीं देते, हम तनाव और अविश्वास, संकट और संघर्ष से भरी 8 अरब-मजबूत दुनिया के लिए खुद को स्थापित कर रहे हैं.

द वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रॉस्पेक्ट्स 2022 रिपोर्ट में कहा गया है कि जनसंख्या और सतत विकास के बीच संबंध को जलवायु परिवर्तन और अन्य वैश्विक पर्यावरणीय चुनौतियों के संदर्भ में माना जाना चाहिए, जिनका सतत विकास पर सीधा प्रभाव पड़ता है.

इसमें आगे कहा गया है कि हाई लेवल की प्रजनन क्षमता वाले देशों के लिए, सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को प्राप्त करना, विशेष रूप से स्वास्थ्य, शिक्षा और लिंग से संबंधित, कम प्रजनन क्षमता और धीमी जनसंख्या वृद्धि की ओर संक्रमण को तेज करने की संभावना है.

एंड्रिया वोजनार, यूएनएफपीए प्रतिनिधि भारत और कंट्री डायरेक्टर भूटान ने कहा,

समाज को फलने-फूलने के लिए महिलाओं और लड़कियों के प्रजनन स्वास्थ्य और अधिकार जनसांख्यिकीय परिवर्तन महत्वपूर्ण हैं. जब हम जनसंख्या प्रवृत्तियों के बारे में बात कर रहे हैं, हम केवल जनगणना के आंकड़ों या सर्वे के बारे में बात नहीं कर रहे हैं – हम एक महिला के अपने शरीर और उसके भविष्य के बारे में चुनाव करने के अधिकार के बारे में बात कर रहे हैं. जनसांख्यिकीय प्रवृत्तियों के बावजूद महिलाओं के प्रजनन अधिकारों और स्वास्थ्य की रक्षा की जानी चाहिए. क्‍लाइमेट चेंज और हेल्‍थ केयर तक पहुंच जैसे मुद्दे सबसे कमजोर लोगों, विशेषकर महिलाओं और लड़कियों को असमान रूप से प्रभावित करते हैं. इस दिन को वैश्विक समुदाय को एक ऐसी दुनिया बनाने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए, जिसमें हम सभी 8 अरब लोग समान रूप से फल-फूल सकें.

इसे भी पढ़ें: “स्थायी विकास लक्ष्यों के 2030 एजेंडा को पाने के लिए खाद्य असुरक्षा पर ध्‍यान देना चाहिए”: एफएओ अधिकारी

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Highlights Of The 12-Hour Telethon

Reckitt’s Commitment To A Better Future

India’s Unsung Heroes

Women’s Health

हिंदी में पड़े

Folk Music For A Swasth India

RajasthanDay” src=